विश्व हिन्दू परिषद के नये केन्द्रीय अध्यक्ष बने पद्मश्री डॉ. आर. एन. सिंह

0
SHARE
पद्मश्री डॉ. आर. एन. सिंह

पटना (विसंके)। विश्व हिंदू परिषद के केंद्रीय अध्यक्ष पद्मश्री डॉ. आर. एन. सिंह बनाए गए हैं। पद्मश्री डॉ आर. एन. सिंह प्रख्यात हड्डी रोग विशेषज्ञ हैं। सहरसा जिले के गोलमा निवासी डॉ. सिंह के पिता जिला एवं सत्र न्यायाधीश स्व. राधा बल्लभ सिंह थे। घर के कनिष्ठ पुत्र ने स्कूली शिक्षा कटिहार और पटना में पूरी की।उन्होंने पीएमसीएच से 1968 में एमबीबीएस की पढ़ाई पूरी करने के बाद एनएमसीएच में अध्यापन करने लगे। लगभग एक दशक लंदन में एफआरसीएस व अन्य डिग्री हासिल की। लंदन में रहने के दौरान ही वे विश्व हिंदू परिषद से जुड़े। पिताजी की इच्छा से 80 के दशक में पटना आकर अपना क्‍लीनिक चलाने लगे। अनुप मेमोरियल आर्थोपेडिक अस्पताल के नाम से क्लिनिक खोलकर उन्होंने अस्थि शल्य चिकित्सा के क्षेत्र में एक कीर्तमान स्थापित किया। हड्डी के इलाज के लिए उन्होंने कई अभिनव प्रयोग किए।

डॉ. आर.एन. सिंह के अग्रज स्व. प्रो. अरविंद नारायण सिंह सहरसा कॉलेज के अंग्रेजी विभाग के वरीय प्राध्यापक के रूप में सेवानिवृत हुए। उनके तीसरे भाई प्रो. अमरनाथ सिंह पटना कालेज पटना के इतिहास विभाग से सेवानिवृत हुए। जबकि सबसे छोटे भाई संजय कुमार सिंह वायु सेना के ग्रुप कमांडर के पद से सेवानिवृत होने के बाद लीवर की बीमारी के कारण दिवंगत हो गए। डॉ. आर.एन सिंह का इकलौता पुत्र डॉ. आशीष कुमार सिंह भी लंदन से एमसीएच कर उनके साथ काम कर रहा है। उनकी पुत्री डॉ. प्रीतांजलि व दामाद डॉ. वी.पी सिंह पटना में कैंसर विशेषज्ञ के रूप में सरकारी अस्पताल के अलावा अपने निजी अस्पताल में इलाज कर रहे हैं।

प्रखर समाजसेवी


प्रारंभ से ही इनकी रुचि समाज सेवा में रही है।  देश के वरिष्ठ हड्डी रोग विशेषज्ञ होने के साथ सामाजिक कार्यों में उनका लगाव हमेशा से रहे। साथ ही साथ शहर के कई सामाजिक संगठनों से भी उनका जुड़ाव रहा। सामाजिक कार्यों में उनकी भागीदारी हमेशा रहती है। आपके द्वारा दृष्टिहीन बालिकाओं के लिए पटना में एक आवासीय विद्यालय भी चलाया जाता है। डॉ. सिंह बिहार नेत्रहीन परिषद और बिहार कुष्ठ सेवा संघ के अध्यक्ष भी हैं। गरीबों के मसीहा के नाम से प्रचलित प्रख्यात चिकित्सक डॉ. शिव नारायण सिंह के नाम पर स्पोर्ट्स फाउंडेशन की स्थापना की। अभी डॉ. शिवनारायण सिंह स्पोर्ट्स फाउंडेशन के मुख्य संरक्षक हैं।

गांव के प्रति भी समर्पित


 पटना में अतिव्यस्त रहने के बावजूद उन्होंने गांव से अपना रिश्ता हमेशा बनाए रखा। गांव में करोड़ों की लागत से 100 बेड का गोलमा जेनरल अस्पताल खोला और महीने में दो दिन आकर लोगों का खुद इलाज करते हैं।

VISHWA HINDU PARISHAD

2010 में उन्हें बेहतर सेवा के लिए राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल ने पद्मश्री सम्मान भी दिया । 2010 में आपको विश्व हिन्दू परिषद, द. बिहार के अध्यक्ष के रूप में चयनित किया गया। जनवरी 2021 में आप विश्व हिन्दू परिषद के केन्द्रीय उपाध्यक्ष बनें । 17 जुलाई, 2021 को आप सर्वसम्मति से विश्व हिन्दू परिषद के केन्द्रीय अध्यक्ष के रूप में चयनित किए गए ।

LEAVE A REPLY