व्यक्तित्व विकास शिविर से मिल रहा है छात्रों के प्रतिभा प्रदर्शन का अवसर

0
SHARE

भागलपुर (विसंके)। भारती शिक्षा समिति बिहार द्वारा आयोजित आनंदराम ढांढानियां सरस्वती विद्या मंदिर  के आतिथ्य में चल रहे समर कैंप सह व्यक्तित्व विकास शिविर के चौथे दिन दक्षिण बिहार प्रांत के 17 जिलों के विभिन्न विद्या मंदिरों में भैया बहन उनके अभिभावक आचार्य गण एवं संगठन के अधिकारियों  की सहभागिता हो रही है। भैया बहनों के सर्वांगीण विकास के लिए आयोजित इस वर्चुअल समर कैंप में गुरुवार को किशोर वर्ग के छात्र छात्राओं  ने भी अपनी प्रतिभा एवं सृजनशीलता को दिखाया।

विद्या मंदिर के मुंगेर विभाग के बहनों द्वारा मास्क निर्माण की कला बताई गई साथ ही इसके महत्व एवं उपयोग के तरीकों को बताया गया। वहीं गया विभाग के बहनों की संगीत की टोली ने ‘देश हमारा सबसे प्यारा…..’ गीत की मनमोहक  प्रस्तुति की। साथ ही विद्या मंदिर के बहनों द्वारा भोजन में प्रयुक्त होने वाले  भारतीय मसालों एवं इनके गुणकारी प्रभावों विस्तृत रूप से बताया गया। इस अवसर पर भारतीय शिक्षा समिति बिहार के प्रदेश सह सचिव प्रदीप कुशवाहा ने बच्चों को  संबोधित करते हुए कहा कि  इस कोरोना से वही जीता जो घर पर रुका। सफलता के लिए आत्मविश्वास का होना बहुत आवश्यक है साथ ही उन्होंने रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए आयुर्वेदिक तरीके भी बताए। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि रहे नीरज कुमार लाल ने कहा कि भारतीय संस्कृति बहुत ही विशाल है एवं  वैज्ञानिकता से भरी पड़ी है। कोरोना के थर्ड स्ट्रेन से बचने के लिए भैया- बहनों ने उपाय बताए और सुझाव भी दिए। बाल वर्ग से आनंद राम विद्या मंदिर के छात्र भैया राघव सिन्हा ने भगवान श्री राम के  पात्र को निभा कर भाव विभोर कर दिया। शिशु वाटिका के भैया बहनों को इंडोर गेम के बारे में जानकारियां दी गई तथा खेल का आनंद भी उठाया।

इस अवसर पर क्षेत्रीय संगठन मंत्री ख्याली राम, क्षेत्रीय सचिव मुकेश नंदन, क्षेत्रीय सह सचिव गोपेष कुमार घोष, प्रदेश सचिव प्रकाश चन्द्र जायसवाल, प्रदेश सह सचिव प्रदीप कुमार कुशवाहा, राकेश नारायण अम्बष्ट, ब्रह्मदेव प्रसाद, वीरेन्द्र कुमार, राजेश रंजन, उमा शंकर पोद्दार, विनोद कुमार, मुकुल कुमार, अनंत कुमार सिन्हा, रामजी प्रसाद सिन्हा, मनोज मिश्र, संजय सिंह, संजीव कुमार झा, अमरेश कुमार,  शशि भूषण मिश्र, दीपक कुमार झा, पंकज उपाध्याय, एवं दक्षिण बिहार में चलने वाले सरस्वती शिशु/विद्या मंदिर के छात्र-छात्राएं उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY