आईएमपी ने गरीब परिवारों के बीच बांटे 5 टन खाद्य सामग्री

0
SHARE

पटना (विसंके)। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सहयोग से चंद्रगुप्त इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट पटना (सीआईएमपी) ने अपने सीएसआर (कॉर्पोरेट सोशल रिस्पॉन्सिबिलिटी) पहल के तहत आज दैनिक वेतन भोगियों एवं वंचित 165 परिवारों को जो कि कोरोना में मजदूरी न मिलने के कारण भुखमरी के कगार पर हैं, उनको लगभग 5 टन खाद्य सामग्री वितरित की। सीआईएमपी के निदेशक डॉ. वी. मुकुंदा दास ने बताया कि संस्थान 2008 से गरीबों की मदद करने और बिहार के सामाजिक-आर्थिक परिदृश्य को बदलने के लिए अपनी विभिन्न सामाजिक पहलों के माध्यम से सक्रिय रूप से योगदान दे रहा है।

उन्होंने कहा कि भूख इस धरती पर सबसे बड़ी बीमारी है और हम खुद को सभ्य तब तक नहीं कह सकते जब तक हमारे समाज में एक भी व्यक्ति बिना भोजन के सोता हो। डॉ. दास ने कहा कि हम स्थिति पर करी नजर रख रहे हैं और यह स्थिति आगे बनी रहती है तो हम आगे भी इस तरह की पहल के लिए पीछे नहीं रहेंगे।

165 परिवार के भोजन के पैकेटों की इस खेप को आज दोपहर संस्थान के मुख्य प्रशासनिक पदाधिकारी और मुख्य संपर्क परामर्शी द्वारा बिहार जन कल्याण समिति के शीर्ष अधिकारियों, डॉ. मोहन सिंह एवं डॉ. गजेंद्र देव शर्मा, को लक्षित लाभार्थियों के बीच अग्रेतर वितरण के लिए सौंपी गई। सीआईएमपी के मुख्य प्रशासनिक पदाधिकारी श्री राजीव रंजन ने बताया कि प्रत्येक पैकेट में 10 किग्रा. चावल, 10 किग्रा. गेहूं का आटा, 2 किग्रा. दाल, 2 किग्रा. चूड़ा, 5 किग्रा. आलू और 500 ग्राम आयोडीन नमक वितरित किया जा रहा है जो कि एक महीने के लिए एक परिवार के निर्वाह के लिए पर्याप्त है। मुख्य संपर्क परामर्शी एवं सीएसआर सेंटर के कोऑर्डिनेटर, श्री कुमोद कुमार ने कहा कि इस पर होने वाले खर्च को संस्थान के सभी कर्मचारियों ने अपने एक दिन के वेतन के अंशदान से वहन किया है।

LEAVE A REPLY