राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ : किशनगंज स्थित संघ शाखाओं में मनाया गया अंतरराष्ट्रीय योग दिवस

0
SHARE
योगाभ्यास करते स्वयंसेवक.

किशनगंज। अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्वयंसेवकों ने बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया। किशनगंज शहर के विभिन्न शाखाओं में भी स्वयंसेवकों ने योग दिवस पर योगाभ्यास किया। कोरोना महामारी को देखते हुए स्वयंसेवकों ने दो गज की दुरी का ख्याल भी रखा।

किशनगंज स्थित भगत सिंह प्रभात शाखा एवं रानी लक्ष्मीबाई प्रभात शाखा स्थान-हवाई अड्डा में योग दिवस का कार्यक्रम सुबह 5:30 बजे मनाया गया। शाखा के शाखा कार्यवाह विश्वजीत कुमार ने लोगों को ब्रह्मनाद (ओम का उच्चारण-3 बार), शरीर संचलन, ताडासन, तिर्यक ताडासन, त्रिकोणासन, ध्रुवासन, वृक्षासन, सूर्य नमस्कार, पद्मासन, सिद्धार्थासन, बकासन, बज्रासन, योगमुद्रासन, शशांकासन, मयूरासन, सर्वांगासन, हलासन, शीर्षासन, प्राणायाम -( भ्रामरी,  अनुलोम-  विलोम, कपालभाति) सहित कई योग करवाया और प्रतिदिन योग करने से होने वाले लाभ  लोगो को बताया।

कार्यक्रम में किशनगंज नगर के नगर सारीरिक प्रमुख रितिक जी,नगर महाविद्यालीन छात्र प्रमुख अभिजीत जी, शाखा पालक प्रदीप जी,राष्ट्र सेविका समिति की जिला कार्यवाहिका श्वेता दीदी जी अन्य स्वयंसेवक बंधु उपस्थित रहे।

वही राम कृष्ण प्रभात शाखा स्थान-हलीम चौक काली मंदिर में कार्यक्रम 6:00 बजे से आरंभ किया गया। शाखा के शाखा कार्यवाह चंदकिशोर, कटिहार विभाग के विभाग कार्यवाह सुखदेव जी ने लोगो को योग करवाये ओर योग के फायदे की जानकारी दी। कार्यक्रम में जिला कार्यवाह देव दास जी (देबू दा) एवं अन्य अधिकारीगण मोहजूद थे। अभिमन्यु प्रभात शाखा धर्मगंज में कार्यक्रम 6:30 बजे से आरंभ हुआ जहां  जिला बौद्धिक प्रमुख कृष्ण कुमार बैद जी ने लोगो को योग की जानकारी दी। कार्यक्रम में अजित दास जी, आरोग्य भारती के शंकर जी अन्य अधिकारी मोहजूद थे।शिवजी प्रभात शाखा शिवाजीनगर (माछमारा) में कार्यक्रम 7:00 बजे से आरंभ हुआ जहाँ शाखा के गनशिक्षक रोहित जी ने लोगो को योग करवाया कार्यक्रम में शाखा के शाखा कार्यवाह भोला मांझी एवं स्वयंसेवक बंधु उपस्थित थे। एवं कोरोना महामारी को देखते हुए अन्य सारे स्वयंसेवक बंधु अपने घर के छत  पर ही अपने आस पास के  परिवार के लोगो को योग करवाया और प्रतिदिन योग करने के लिए प्रेरित किये और योग से होने वाले लाभ के बारे में बताया गया।

सुबोध  किशनगंज

LEAVE A REPLY