वैचारिक द्वेष मिटा रहा सामाजिक संस्कृति

0
SHARE

समस्तीपुर के डॉ. एलकेवीडी कॉलेज, ताजपुर के प्रिंसिपल के आदेश पर छात्रसंघ कार्यालय के ऊपर ‘भारत माता की जय’ व ‘वंदेमातरम्’ शब्द को मिटा दिया गया था। जिसके बाद अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ताओं ने इस कार्य के विरुद्ध आवेदन दिया और कहा कि यदि कॉलेज की दीवारों पर ‘भारत माता की जय’ ‘वंदेमातरम्’ के नारों को पुनः नहीं लिखाया गया तो विद्यार्थी परिषद के कार्यकर्ता आंदोलन करने पर बाध्य होगी। कार्यकर्ताओं के आगे प्रिंसिपल को झुकना पड़ा और दीवारों पर पुनः ‘भारत माता की जय’ एवं ‘वंदेमातरम्’ लिखवाया गया।

samastipur 01
सबसे बड़ी बात यह है कि विद्यालयों और विश्वविद्यालयों की दीवारों पर प्रायः आप इस प्रकार के नारों को देखते या पढ़ते होंगे। इस प्रकार के नारों का मुख्य उद्देश्य है छात्र-छात्राओं में राष्ट्रप्रेम को जगाए रखना।
कार्यकर्ताओं ने कहा कि समस्तीपुर के एलकेवीडी कॉलेज की घटना कहीं ना कहीं छात्रों को राष्ट्रप्रेम से अलग करने का एक तरीका है जिसे वैचारिक द्वेष के कह सकते है। इस प्रकार के लोग राष्ट्रप्रेम और सामाजिक संस्कृति को मिटाना चाह रहे हैं विरुद्ध कड़ी से कड़ी कानूनी कार्यवाई किये जाने की आवश्यकता है।

LEAVE A REPLY