‘Kiss of Love’ कैंपेन वाली कामरेड रश्मि नायर पर सेक्स रैकेट केस में चार्जशीट दाखिल, पुलिस पर कारवाई का दवाब बढ़ा

0
SHARE

केरल पुलिस ने किस ऑफ लव कैंपेन के आयोजक रहे राहुल पशुपालन व उसकी पत्नी रेशमी नायर समेत 8 लोगों को सैक्स रैकेट चलाने संबंधित मामले में पोक्सो (POCSO) के विशेष अदालत में चार्जशीट दायर कर दिया है लेकिन पुलिस पर इस पर आगे करवाई करने और जल्द से जल्द न्याय दिलाने का दवाब बढ़ता जा रहा है।

केरल में ऑनलाइन सेक्स रैकेट चलाने के मामले में उन्हें शामिल पाया गया था। पुलिस पर पहले ही चर्गेशीट दायर करने में देरी को लेकर आरोप लगते रहे हैं जिसे पुलिस ने टेक्नोलॉजी को जिम्मेदार ठहराते हुए देरी के आरोपों से किनारा करती आ रही है।

आरोप पत्र में आरोपी दम्पंती पर सेक्स रैकेट में शामिल होने और बाल सेक्स व्यापर में शामिल गैंग को मदद पहुँचाने का आरोप लगाया गया है।

क्राइम ब्रांच के पुलिस अधीक्षक एस। श्रीजीथ ने दोनों के खिलाफ आरोप पत्र दायर किया। आईजी श्रीजीथ ने के नेतृत्व में ही क्राइम ब्रांच की एक टीम ने एक अंडरकवर ऑपरेशन चला कर इस सेक्स रैकेट का भंडाफोड़ किया था। इस अभियान को ‘ऑपरेशन बिग डैडी’ का कोड नाम दिया गया था।  यह रैकेट किशोर बच्चियों, महिलाओं को इस्तेमाल कर उसे देह व्यापर के धंधे में धकेलता था। दोनों को नेदुंबसेरी इलाके से 2015 में गिरफ्तार किया गया था।

क्राइम ब्रांच से जुड़े एक सख्स की रिपोर्ट के आधार पर मॉडल और ‘किस ऑफ़ लव’ की आयोजक रही रश्मि पर आरोप पत्र में किशोर बच्चियों को पैसे वाले क्लाइंट के साथ मिलवाने और पैसे के बदले सेक्स के धंधे में धकेलने का आरोप लगाया गया है। जबकि उसके पति राहुल पशुपालन पर इस रैकेट के बारे में मालूमात रखने, धंधे में मदद देने के आरोप से जुड़ी धाराएं लगाई गईं है। पुलिस को आरोप पत्र दाखिल करने में चार साल लग गए जबकि आरोपी दम्पंती कि गिरफ़्तारी और एफआईआर 2015 में ही दर्ज कर लिया गया था।

आरोप पत्र के अनुसार, दोनों दंपति, किस ऑफ़ लव’ कैंपेन से जुड़ी थीं और और इन दोनों ने किशोर बच्चियों को बैंगलोर से तस्करी कर केरल लाती थीं और उन्हें सेक्स रैकेट के जाल में उलझाकर देह व्यापार में धकेल देती थीं।

क्राइम ब्रांच के सीनियर अधिकारी ने गिरफ़्तारी से जुड़े सवाल पर कहा कि, “हमने ‘कोचु सुन्दारिकल’ केस में एफआईआर दाखिल कर दिया है और मामले की तह तक जाने और मामले से जुड़े अन्य लिंक को पता लगाने का फैसला किया है। यह तो एक मामला और इस गिरफ़्तारी का फेसबुक पेज से कोई लेना देना नहीं है। हमने पहले देह व्यापार में धकेली गईं महिला द्वारा दी गई जानकारी के आधार पर करवाई की, फिर हमने बंगलौर से तस्करी कर लाई गई दो बच्ची को ट्रैक किया तब जाकर इस गैंग का पता लगा और हम गिरफ्तार करने में सफल रहे।”

क्या था किस ऑफ लव‘ कैंपेन?
पिछले साल केरल के कोझिकोड में एक संगठन के कुछ लोगों ने कॉफी शॉप में खुलेआम अश्लीलता फैलाने के आरोप में हमला बोल दिया था। प्रेमी जोड़ों की सरेआम पिटाई की गई। ‘किस ऑफ लव’ कैंपेन की शुरुआत इसी घटना के बाद हुई। जो बाद में देश के कई दूसरे शहरों में भी पॉपुलर हो गया। इस कैंपेन के तहत कपल्स को पब्लिक प्लेस पर ‘किस’ करने को कहा गया था। इस कैंपेन के फेसबुक पेज को पिछले साल करीब 14 हजार लोगों ने लाइक किया था।

कैसे चलता था सेक्स रैकेट?

पुलिस के मुताबिक ‘किस ऑफ लव कैंपेन’ के ऑर्गनाइजर कपल टीम बनाकर पूरे केरल में ऑनलाइन सेक्स रैकेट चला रहे थे। इसके लिए ‘कोचु सुंदारिकल’ नाम से एक फेसबुक पेज बनाया गया था। इस पेज पर 18 साल से कम उम्र की लड़कियों के अश्लील फोटो पोस्ट किए जाते थे। इसके बाद पैसे लेकर लड़कियां सप्लाई की जाती थीं। केरल पुलिस ने फिलहाल इस पेज को ब्लॉक करा दिया है। इस रैकेट में शामिल अन्य लोगों की तलाश की जा रही है।

LEAVE A REPLY