विद्या भारती, दक्षिण बिहार इकाई के 17 जिलों से 250 प्रधानाचार्यो ने चार दिवसीय वार्षिक सम्मेलन में लिया हिस्सा

0
SHARE

कोईलवर (आरा), 20 फरवरी. प्रखंड के बहियारा स्थित सरस्वती विद्या मंदिर में शिशु शिक्षा प्रबंध समिति एवं भारती शिक्षा समिति बिहार द्वारा सरस्वती शिशु मंदिरों एवं विद्या मंदिरों के प्रधानाचार्यो का चार दिवसीय वार्षिक सम्मेलन आज से शुरू हो गया हैं. सम्मेलन का उदघाटन मुख्य अतिथि विद्या भारती के राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री यतीन्द्र शर्मा, राष्ट्रीय सह संयोजक खेलकूद कृपाशंकर शर्मा, क्षेत्रीय सह संगठन मंत्री शशि कांत फड़के, क्षेत्रीय सचिव दिलीप कुमार झा, क्षेत्रीय मंत्री कमल किशोर सिन्हा, प्रदेश सचिव गोपेश कुमार घोष ने संयुक्त रुप से किया. सम्मलेन की अध्यक्षता राज्यसभा सांसद आरके सिन्हा ने की.

वही मुख्य अतिथि राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री यतीन्द्र शर्मा ने कहा कि शिक्षा जीवन के लिए हो, प्रतिस्पर्धा के लिए नहीं. शिक्षा स्वाभिमान और आत्म गौरव बढ़ाने वाली हो. विद्या मनुष्य को आत्मीयता भाव भरती है. विद्या से इह व परलोक दोनों ठीक होता है. विद्या के माध्यम से संस्कार देते हैं. उन्होंने कहा कि शिक्षा का भारतीयकरण हो जो हमारी राष्ट्रीय शिक्षा का एक स्वरूप बन सके. शिक्षा में सकारात्मक सोच विकसित करने के लिए प्रयास करना है.

विषय प्रवेश करते हुए प्रदेश सचिव ने कहा कि कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य पिछले सत्र के कार्यक्रमों की समीक्षा व आगामी सत्र के लिए कार्यक्रम के क्रियान्वयन करने को लेकर चिंतन मनन किया जाएगा. इसके अलावा सामाजिक सरोकार के कार्यक्रम समेत कई बिंदुओं पर चर्चा की गयी.

सम्मेलन में दक्षिण बिहार के विभिन्न सरस्वती
शिशु विद्या मंदिरों से लगभग 250 प्रधानाचार्य व उप प्रधानाचार्य भाग ले
रहे हैं. मौके पर प्रदेश सह सचिव प्रकाश चन्द्र जायसवाल, एचएन सिंह,
 ब्रह्मदेव प्रसाद, प्रांतीय
मिडिया प्रभारी राकेश अम्बष्ठ समेत अन्य लोग मौजूद थे.

LEAVE A REPLY