नालन्दा की श्वेता ग्लोबल वूमेन ऑफ रग्बी अवार्ड पाने वाली पहली भारतीय बनेगी

0
SHARE

नालंदा, 23 फरवरी। नालंदा जिले के सिलाव प्रखंड के छोटे से गांव भदारी की रग्बी खिलाडी श्वेता शाही के नाम एक और बड़ी उपलब्धि दर्ज हुई है। श्वेता शाही देश की पहली महिला खिलाड़ी हैं जिन्हें लंदन में ग्लोबल वूमेंस रग्बी अवार्ड सम्मान मिल रहा है। 23 से 25 फरवरी तक लंदन के लेंसवरी कांफ्रेंस सेंटर में वर्ल्ड रग्बी मीटिंग के दौरान उन्हें ग्लोबल वूमेन ऑफ रग्बी अवार्ड से सम्मानित किया जाएगा। इस सम्मान के लिए पूरी दुनिया से 15 खिलाड़ियों का चयन किया गया है, जिसमें से भारत से एकमात्र श्वेता शाही का चयन हुआ है।

आपको बताते चले कि 19 वर्षीया श्वेता शाही इंटरमीडिएट की छात्रा हैं। इस छोटी सी उम्र में श्वेता शाही ने कई नेशनल और इंटरनेशनल चैम्पियनशिप में शानदार प्रदर्शन किया है । 2015 में चेन्नई में आयोजित सब एशियन रग्बी चैम्पियनशिप में सीनियर मेंस एंड विमेंस इंटरनेशनल चैंपियनशिप में वह सिल्वर मेडल हासिल की थीं। दूसरा एशियन विमेंस रग्बी फुटबॉल चैंपियनशिप 2016 में श्रीलंका की राजधानी कोलंबो में आयोजित किया गया था,  उसमें श्वेता ने गोल्ड मेडल जीतकर भारत का मस्तक ऊंचा किया था। तीसरा अंडर-19 एशियन रग्बी फुटबॉल चैंपियनशिप का आयोजन 2016 में ही दुबई में हुआ था। इसमें भारतीय खिलाड़ी श्वेता शाही ब्राउन मेडल जीतने में कामयाब हुईं।

ग्लोबल वूमेन ऑफ रग्बी अवार्ड में चयन के बाद उन्होंने बताया कि लड़कियों के बीच रग्बी फुटबॉल को बढ़ावा देने के लिए यह सम्मान मिल रहा है।

नालंदा संवाददाता

LEAVE A REPLY