राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने किया सामाजिक सद्भाव बैठक

0
SHARE

नवादा, 29 जनवरी। हिन्दु समाज आपसी फुट के कारण ही हजारों वर्षों तक गुलाम रहा। भविष्य में भी ऐसा न हो जिससे हिन्दु समाज व हिंदुत्व को कमजोर किया जा सके। इसी उद्देश्य को लेकर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की स्थापना डॉ. केशव बलिराम हेडगेवार ने किया था। उक्त बातें राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्थानीय कार्यालय सामाजिक सद्भाव बैठक के दौरान दक्षिण बिहार के प्रांत कार्यवाह वीणेश प्रसाद कहा। उन्होने कहा कि संघ जाति-वर्ण को नहीं मानता, बल्कि संघ सम्पूर्ण समाज को हिन्दु मानता है। लेकिन वर्त्तमान सामाजिक संरचना को ध्यान में रखकर विभिन्न जातियों ने अपने-अपने कुछ प्रमुख तय कर रखें है। जिसके पास वो समय-समय पर अपनी समस्याओं को लेकर जाते रहते है। उन्हीं को लेकर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने सामाजिक सद्भाव के साथ हिन्दु समाज एकजुट रहे।

जाति सम्मेलन हिन्दु को तोड़ने का
प्रयास

प्रांत कार्यवाह वीणेश प्रसाद ने बैठक
में उपस्थित जाति प्रमुखों से कहा कि आज सम्पूर्ण समाज को कुछ तथाकथित राजनीतिक
दलों के नेताओं द्वारा बहलाकर जाति सम्मेलन पर बल देकर जाति सम्मेलन कराते है।
उन्होने जाति सम्मेलनों को अनुचित बताते हुए इसे हिन्दुओं को तोड़ने की साजिश करार
दिया। उन्होने कहा कि आज जाति सम्मेलन के माध्यम से हिन्दु के ताकतों को जानबूझकर
बांटने का प्रयास किया जा रहा है। उन्होने इसकी कई ऐतिहासिक उदाहरणों के द्वारा
बताने का प्रयास भी किया।

बैठक का नेतृत्व जिला सामाजिक सद्भाव
प्रमुख अमरेन्द्र कुमार ने किया। वहीं बैठक में विभाग संघचालक डॉ. अशोक कुमार, नगर संघचालक आरपी साहू, जिला कार्यवाह प्रदीप कुमार उपस्थित थे। बैठक में पहुंचे विभिन्न
जातिवर्ग के लोगों ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से ऐसी बैठकों को बड़े एवं जिले स्तर
पर करने का आग्रह किया । 

LEAVE A REPLY