वीर बालक शान्तिप्रकाश का बलिदान

0
SHARE

27 जुलाई : बलिदान-दिवस
पटना, 26 जुलाई : देश की आजादी के लिए हजारों वीर पुरूषों, माताओं, बहिनों और नवयुवकों ने बलिदान दिया। इनमें से ही एक था 18 वर्षीय वीर बालक शान्तिप्रकाश, जिसने इस यज्ञ में 27 जुलाई 1939 को प्राणाहुति दी। इसका जन्म ग्राम कलनौर अकबरी, जिला गुरदासपुर, पंजाब में हुआ था।
यों तो सत्याग्रहियों और क्रांतिकारियों पर पूरे देश में अत्याचार होते थे; पर हैदराबाद रियासत की बात ही निराली थी। वहां का निजाम मुसिलम लीगी था। उसके गुण्डे सामान्य दिनों में भी हिन्दुओं पर बहुत अत्याचार करते थे। कोई मठ, मंदिर वहां सुरक्षित नहीं था। निजाम की इचदा थी कि देश स्वतंत्र न हो। यदि हो, तो हैदराबाद रियासत को स्वतंत्र रहने या पाकिस्तान के साथ जाने की छूट मिले। अंग्रेजों ने भी उसे खुली छूट दे रखी थी। ऐसे में स्थानीय हिन्दुओं ने निजाम के विरुद्ध आंदोलन किया। आर्य समाज के नेतृत्व में देश भर से सत्याग्रही हैदराबाद आने लगे। उनमें से वीर बालक शान्तिप्रकाश भी था।
प्रायः जेलों में गुण्डे और चोर ही होते हैं। जेलर इनसे गाली और मारपीट से ही बात करते हैं; पर हैदराबाद की जेल में अब जो लोग आये, वे संपन्न, शिक्षित और प्रतिष्ठित लोग थे। अतः उनसे मारपीट करना बहुत कठिन था। वे किसी सुविधा या न्यायालय में जमानत के लिए भी अनुरोध नहीं करते थे।
ऐसे में जेलर ने सोचा कि इनसे क्षमापत्र लिखवा कर इन्हें छोड़ दिया जाये; पर कोई सत्याग्रही इसके लिए तैयार नहीं था। अतः जेलर ने पुराना तरीका अपनाया। बन्दियों को जूतों, डण्डों, लोहे की चेन से पीटा जाता। भरी दोपहर में उनसे भारी पत्थर ढुलवाये जाते। लोहे की पतली तार के सहारे गहरे कुंएं से बड़े डोले से पानी खिंचवाया जाता। इससे हाथ कट जाते थ्ज्ञे। दोपहर 12 बजे से चार बजे तक धूप में नंगे सिर और पांव खड़ा कर दिया जाता। बेहोश होने पर क्षमापत्र पर उनके अंगूठे लगवा लिये जाते। इससे बन्दियों की संख्या घटने लगी और सत्याग्रह की बदनामी होने लगी।
शान्तिप्रकाश का कोमल शरीर यह अत्याचार सहन नहीं कर पाया, उसने चारपाई पकड़ ली। इलाज के अभाव में जब उसकी हालत बिगड़ गयी, तो उसके घर तार से सूचना भेजी गयी। उसके पिता श्री रामरत्न शर्मा दौड़े-दौड़े हैदराबाद आये। पुत्र की हालत देखकर उनकी आंखों में आंसू आ गये।
शान्ति से इस अवस्था में भी उन्हें धैर्य बंधाया और मां तथा अन्य परिजनों का हाल पूछा। जेलर ने देखा कि यह अच्छा मोका है, उसने शान्ति के पिता से कहा कि यदि आप चाहें, तो आपका बेटा बच सकता है। बस, यह क्षमापत्र भर दे, तो आज ही इसकी रिहाई हो सकती है; पर शान्ति को ढृढ़ा के संस्कार पिता से ही तो मिले थे। उन्होंने भी मना कर दिया। शान्ति ने सन्तुष्टि के साथ मुस्कुराते हुए पिता की गोदी में सिर रखा और प्राण त्याग दिये।
इस घटना के कुछ वर्ष बाद लोगों ने देखा गुरदासपुर से बटाला जाने वाले मार्ग पर एक साधु ने डेरा लगाया। वह दिन भर पतले लोहे के तार से बड़ें डोल में कुएं से पानी खींचकर आते-जाते लोगों को पिलाता था। प्याऊ के बाहर सूचना लिखी थी कि यहां कोई किसी को गाली न दे। लोगों का अनुमान था कि यह वही क्रूर जेलर है, जिसके अत्याचारों से पीड़ित होकर शान्तिप्रकाश का देहान्त हुआ था। उसके बलिदान ने जेलर का मन बदल दिया और वह नौकरी छोड़कर सेवा में लग गया।

LEAVE A REPLY