हिन्दू समाज को खंडित करने की हो रही साजिश-विहिप

0
SHARE

बेगुसराय, 19 अप्रैल। हिन्दू समाज को खण्ड खण्ड करने की कोशिश जो पराधीनता के काल मे अंग्रेजों ने की थी,वह विगत 4/5 वर्षो से अंतरास्ट्रीय साजिस के तहत चल रही हैं। अंग्रेज़ो ने आर्य ओर द्रविड़ का मनगढ़ंत विभेद खड़ा किया था। उसी प्रकार से आज अनुसूचित जनजाति के लोगों एवं अन सूचित जाती के लोगों को हिन्दू समाज से तोड़ कर राष्ट्र की एकता ओर अखण्डता को तोड़ने का प्रयाश चल रहा हैं।पुणे में विगत दिनों भीमा कोरे गांव की घटना को बहाना बनाकर जिस प्रकार से हिन्दू समाज पर आक्रमण किया गया।वह इस सडयंत्र को उजागर करता हैं।इस प्रकार से ही रावण के पुतला दहन का विरोध,महिषासुर मर्दनी की निर्त्य नाटिका ओर अभी- अभी अनुसूचित जनजाति अत्याचार निवारण कानून को समाप्त करने के झूठे बहाने बना कर देश भर में तोड़ -फोड़ एवं बन्दी की घटनाओं को अंजाम दिया गया।जबकि सुप्रीम कोर्ट ने उस कानून को निरस्त करने का फैसला नही सुनाया हैं।किन्तु इसे भ्रम फैला कर किया गया।

विश्व हिंदू परिषद सम्पूर्ण हिन्दू समाज, हिन्दू धर्म संस्कृति ओर हिन्दू राष्ट्र भारत को तोड़ने की हर कोशिश के विरुद्ध डट के खड़ा हैं।राष्ट्र धर्म संस्कृति ,समाज की सुरक्षा हेतु विहिप ,बजरंगदल ओर दुर्गाववाहनी के कार्यकर्ताओं को इन्ही सब विषयों पर शारीरिक ,मानसिक,ओर बौद्धिक रूप से प्रशिक्षित करने हेतु मई एवं जून के महीने में प्रशिक्षण वर्ग का आयोजन किया जा रहा हैं।जिस के लिये विहिप पदाधिकारियों का प्रवास चल रहा हैं।जिसके अंतर्गत विहिप के विभाग मंत्री श्री बिनोद कुमार लाठ के आवास पर उक्त बातें विहिप के झेत्रीय मंत्री श्री बीरेंद्र बिमल जी,प्रान्त अध्यक्ष श्री कृष्ण देव झा जी, सीमाँचल प्रभारी अमर नाथ सिंह,विभाग मंत्री बिनोद कुमार लाठ एवं मीडिया प्रभारी विवेक कुमार लाठ ने सयुक्त रूप से प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कही हैं।

LEAVE A REPLY