आत्मीयता ही समरसताः पतंगे

0
SHARE

आत्मीयता ही समरसता है। भारत का अपना दर्शन है। अपनी विचारधारा है एवं अपनी सांस्कृतिक मूल्य है। तुलसीदास जी ने भी कहा कि ‘सियाराम मैं सब जग जानूं, करहुं प्रणाम जोड़ जुग पाणि।’ स्वयं राम ने भी उत्तर भारत से दक्षिण भारत तक सबको हृदय से लगाया। सबको अपना बनाया। सबरी के जूठे बेर खाये। रीछ, बानर, भालू सबका साथ लिया। इस प्रकार सबको साथ लेकर समरसता का जयघोष किया। उक्त बातें विश्व संवाद केंद्र द्वारा आयोजित ‘हमारी समरसता के सांस्कृतिक आधार’ विषयक संगोष्ठी में उभर कर सामने आयी। संगोष्ठी के मुख्य वक्ता वरिष्ठ पत्रकार तथा केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड के सदस्य रमेश पतंगे थे। संगोष्ठी का विषय प्रवेश वरिष्ठ साहित्यकार डॉ. शत्रुघ्न प्रसाद ने किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता केंद्रीय विश्वविद्यालय, दक्षिण बिहार के कुलपति प्रो. हरिश्चंद्र सिंह राठौर ने की।
आद्य पत्रकार देवर्षि नारद स्मृति कार्यक्रम की शुरूआत में विश्व संवाद केंद्र द्वारा प्रकाशित स्मारिका ‘बिहार में मीडिया’ का विमोचन किया गया। पाटलिपुत्र सिने सोसायटी द्वारा आयोजित वृतचित्र एवं लघु फिल्म प्रतियोगिता के विजेताओं को सम्मानित किया गया। प्रथम पुरस्कार कार्तिक ठाकुर की लघु फिल्म ‘सोच की छलांग’ को दिया गया। द्वितीय पुरस्कार विवेक कुमार एवं तृतीय पुरस्कार शिखा कुमारी एवं उनकी टीम को दिया गया। प्रत्येक वर्ष की भांति इस वर्ष भी पत्रकार सम्मान समिति द्वारा 2016 के पत्रकार सम्मान की घोषणा की गई। पत्रकार सम्मान की घोषणा वरिष्ठ पत्रकार मणिकांत ठाकुर ने किया।
पत्रकार सम्मान समिति द्वारा इस वर्ष का ‘देशरत्न डॉ. राजेंद्र प्रसाद पत्रकारिता शिखर सम्मान’ वरिष्ठ पत्रकार इंद्रजीत प्रसाद सिंह को प्रदान किया गया। ‘केशवराम भट्ट पत्रकारिता सम्मान’ हिन्दुस्तान टाइम्स के वरीय संवाददाता रूचिर कुमार को उनके चिकित्सा शिक्षा के क्षेत्र में विशिष्ट रिपोर्टिंग के लिए दिया गया। वहीं ‘बाबूराव पटेल रचनाधर्मिता सम्मान’ दैनिक भास्कर, मुजफ्फरपुर के छायाकार दयानंद पाठक को प्रदान किया गया। श्री पाठक को यह सम्मान सेना में भर्ती से संबंधित विशेष छायांकन के लिए प्रदान किया गया।
विश्व संवाद केंद्र के गतिविधियों की जानकारी संस्था के सचिव डॉ. संजीव चौरसिया ने दी। कार्यक्रम का धन्यवाद ज्ञापन विश्व संवाद केंद्र के अध्यक्ष श्रीप्रकाश नारायण सिंह ने तथा मंच संचालन प्रशांत रंजन ने किया।08

LEAVE A REPLY